1 Bareilly News In Hindi, Latest बरेली न्यूज़ Headlines - Amarujala.com
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

फैसले से पहले ही बढ़ाई जाने लगी अयोध्या की सुरक्षा, अग्रिम आदेश तक भेजे गए पुलिस अफसर व सिपाही

अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले फैसले को देखते हुए पुलिस महकमे ने वहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं।

16 अक्टूबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

बरेली

बुधवार, 16 अक्टूबर 2019

प्रेमी ने फंदे पर लटककर जान दी, प्रेमिका को घरवालों ने बचा लिया

सीबीगंज (बेली)। थाना क्षेत्र के एक गांव में आमने-सामने घरों में रहने वाले प्रेमी युगल ने घरवालों की बंदिशों से आहत होकर जान देने का फैसला कर लिया। इंटरमीडिएट में पढ़ने वाले प्रेमी ने अपने घर में फंदा लगाकर जान दे दी। इसके थोड़ी ही देर बाद ही उसकी प्रेमिका हाईस्कूल की छात्रा ने भी अपने घर में फंदा लगा लिया, लेकिन घरवालों ने उसे बचा लिया। उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। युवक के शव का पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया है। दोनों ही परिवार के लोग इस मामले में कुछ भी कहने से बच रहे हैं।
एक गांव के मजदूर का 20 बेटा कमल फतेहगंज पश्चिमी स्थित एक इंटर कॉलेज में 12वीं का छात्र था। दो साल से उसके प्रेम संबंध घर के सामने रहने वाली 16 वर्षीय किशोरी से थे। वह सीबीगंज के विद्यालय में हाईस्कूल की छात्रा है। दोनों के प्रेम संबंधों की भनक घरवालों को लगी तो उनके मिलने और बात करने पर पाबंदी लगा दी गई। रविवार को दोनों को घरवालों ने बात करते देखा तो उनकी फटकार लगाई। इससे आहत होकर युवक ने सोमवार दोपहर अपने कमरे का दरवाजा बंद कर कुंडे में प्लास्टिक की रस्सी बांधकर फंदा लगाकर जान दे दी। करीब एक बजे जब परिवार के लोगों ने खिड़की से झांककर देखा तो कमल का शव फंदे से लटका था। दरवाजा तोड़कर उसे उतारा गया। घर में जब चीखपुकार मची तो गांव के और लोग भी आ गए। इनमें उसकी प्रेमिका के घर वाले भी थे। कमल की मौत की खबर मिलने पर छात्रा भी कमरे में दुपट्टे से फंदा बनाकर लटक गई, लेकिन मां की उस पर नजर पड़ गई और उन्होंने शोर मचा दिया। घरवालों ने समय रहते छात्रा को फंदे से उतार लिया। उसे शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। घटना की सूचना पर इंस्पेक्टर बच्चू सिंह मौके पर पहुंचे और युवक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मंगलवार को पोस्टमार्टम किया जाएगा।
... और पढ़ें

दिल्ली-लखनऊ हाईवे- अब 15 महीने में दुरुस्त हो जाएगा लखनऊ हाईवे

बरेली। लखनऊ-दिल्ली हाईवे पर बरेली-सीतापुर फोरलेन का करीब चार साल से लटका काम नवंबर में शुरू हो जाएगा। एनएचएआई दिल्ली मुख्यालय पर सोमवार को आगरा की राज कारपोरेशन लिमिटेड नाम की कंपनी को अधूरे पड़े इस प्रोजेक्ट का करीब छह अरब से ठेका हो गया है। कंपनी को यह काम 15 माह के अंदर पूरा करना है। एनएचएआई के अधिकारियों का कहना है कि कंपनी को पांच फीसदी बैंक गारंटी जमा कराने की औपचारिकता भी एक-दो दिन में पूरी हो जाएगी।
बरेली से सीतापुर के बीच 157 किलोमीटर लंबे इस हाईवे का काम चार साल से अधूरा पड़ा है। टूटते-दरकते हाईवे और अधूरे फ्लाईओवर की वजह से यहां आए दिन हादसों में मौतें हो रही हैं। पिछले साल इरा इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी पर एनएचएआई एफआईआर भी दर्ज करा चुकी है। करीब सवा साल बाद एनएचएआई ने इस अधूरे प्रोजेक्ट का काम पूरा कराने के लिए नौ अक्तूबर को टेक्निकल टेंडर की प्रक्रिया पूरी की थी। 7.67 अरब के इस टेंडर में तीन कंपनियां पास हुई थीं। इसके बाद पिछले शनिवार को वित्तीय टेंडर पड़ने थे, लेकिन एक कंपनी के कागजात पूरे नहीं थे। इसके बाद सोमवार को एनएचएआई के दिल्ली मुख्यालय पर वित्तीय टेंडर पड़े। इसमें 9.2 फीसदी कम लागत में टेंडर डालने वाली आगरा की राज कारपोरेशन लिमिटेड नाम की कंपनी को ठेका दे दिया गया है। इस कंपनी को करीब सात अरब से हाईवे ठीक करने के साथ सीतापुर और शाहजहांपुर में एक-एक ओवरब्रिज का निर्माण भी करना है।
बरेली-सीतापुर फोरलेन के अधूरे के लिए आगरा की एक कंपनी का टेंडर फाइनल हो गया है। यह कंपनी नवंबर में काम शुरू कराएगी। करीब सवा साल में इस हाईवे को पूरा कराया जाना है।
-एनपी सिंह, परियोजना निदेशक, एनएचएआई
... और पढ़ें

एफएसडीए ने कागजों पर निपटा दिया त्योहार, रिपोर्ट भी भेजी

बरेली। खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन (एफएसडीए) ने नवरात्र-दशहरा पर भी निर्धारित खाद्य वस्तुओं के सैंपल नहीं भरे। केला और सेब पकाने के चैंबर तक चेक करना उचित नहीं समझा, जबकि इस दौरान फलों की मांग खूब रहती है। नवरात्र व्रत में सिंघाड़ा, कुट्टू आटा, ड्राई फ्रूट, साबूदाना और नमकीन की मांग रहती है। मिलावटखोर व्रत रखने वालों के साथ भी धोखाधड़ी करने से नहीं चूकते हैं। इसलिए दशहरा तक विशेष अभियान चलाने के निर्देश मुख्यालय ने दिए थे, बावजूद इसके इन दिनों मिलावटखोरों से मिलीभगत रखने वाली टीमें खामोश ही रहीं। कुछ एसडीएम ने जरूर ग्रामीण और उपनगरों में अभियान चलवाए और करीब दो दर्जन सैंपल भरवाए।
नवरात्र और दशहरा पर जिला एफएसडीए की टीम ने कागजी अभियान चलाकर रिपोर्ट मुख्यालय को सौंप दी है। बताया जाता है कि जो अभियान एसडीएम ने तहसील में चलवाए थे, उनको भी अपने खाते में जोड़ लिया है। शहर में एक भी दिन अभियान नहीं चलाया गया। मनमानी के चलते ही पिछले दिनों एफएसडीए आयुक्त मिनिस्ती एस. जिला अभिहित अधिकारी धर्मराज मिश्रा को नोटिस देकर जवाब-तलब किया था, मनमानी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्होंने नोटिस का जवाब अब तक नहीं दिया है।
एफएसडीए विभाग अपर आयुक्त अनीता भटनागर जैन ने नवरात्र-दशहरा पर व्रत में प्रयोग किए जाने वाले आइटम सिंघाड़ा, कुट्टु आटा, साबूदाना, फल व उनके पकाने वाले चैंबरों की चेकिंग, ड्राईफ्रूट और व्रत वाली मिठाई-नमकीन आदि चेक कर सैंपल कराने के निर्देश सभी जिलों को दिए थे, पर बरेली की टीम खामोश रही। खुद जिला अभिहित अधिकारी मिश्रा अभियान अवधि 27 सितंबर से पांच अक्टूबर में अवकाश पर चले गए। इसकी जानकारी भी उन्होंने जिला प्रशासन को नहीं दी। बहरहाल, जिला अभिहित अधिकारी ने कागजों पर चले अभियान की रिपोर्ट मुख्यालय भेज दी है।
... और पढ़ें

चिन्मयानंद मामले में आया नया मोड़, स्वामी के फोन से गायब डाटा लखनऊ लैब में नहीं हो सका रिकवर

फाइल फोटो फाइल फोटो

सिस्टम बेहालः दीवाली पर घर चमचमाएंगे पर मोहल्ले गंदगी से बजबजाएंगे

बदायूं। दिवाली नजदीक है। त्योहार पर हर कोई अपने घर की साफ-सफाई करके गंदगी को बाहर निकालता है, लेकिन नगर पालिका प्रशासन है जिसे शहर की बदहाल हो चुकी सफाई व्यवस्था को लेकर किसी तरह की चिंता नहीं है। यूं तो शहर का कोई मोहल्ला या फिर स्थान अछूता नहीं बचा है, जहां गंदगी के ढेर न मिल जाएं, या फिर सड़कों पर गंदगी न फैली हो, लेकिन कुछ स्थानों पर तो हाल बहुत ही बुरा हो चुका है। यहां कई कई दिनों से कूड़ा उठाया नहीं जा रहा, साथ ही शहर के अन्य स्थानों से लाकर कूड़ा यहां डाला जा रहा है। पथिक चौक व शिवपुरम में लोगों का जीना मुहाल हो चुका है। पालिका के इस रवैये से लोगों में खासी नाराजगी भी है।
प्रदेश सरकार में शहर विधायक महेश चंद्र गुप्ता नगर विकास राज्यमंत्री हैं। ऐसे में शहर की जनता को जनसमस्याओं से निजात मिलने की पूरी उम्मीद है, लेकिन पालिका प्रशासन को न मंत्री का डर है और न ही मंगलवार को जिले की कमान संभालने वाले नए डीएम का। शहर में गंदगी एक स्थायी समस्या बन चुकी है। भले ही देश में स्वच्छता अभियान चल रहा हो, लेकिन इस अभियान के बाद भी लोगों को गंदगी से निजात नहीं मिल पा रही है। शहर में अनेक स्थान ऐसे हैं जो पूरी तरह से डलावघर बन चुके हैं। सड़कों पर फैली गंदगी से हर किसी को दो-चार होना पड़ रहा है।
शहर के मोहल्ला पथिक चौक में गंदगी का जो नजारा है, उसके पास से गुजरने वाला हर कोई व्यक्ति पालिका प्रशासन को कोसते थक नहीं रहा है। यहां कूड़े का ढेर सड़क के बीच आ गया है। लोगों का कहना है कि जब मंत्री शहर के हैं तब यह स्थिति है। आसपास के लोगों का कहना है कि गंदगी को कई दिनों तक उठाया तक नहीं जाता है। लिहाजा, मच्छरों का प्रकोप भी काफी बढ़ गया है। ऐसे में जानलेवा संक्रामक रोगों के फैलने का अंदेशा भी बढ़ गया है।
मोहल्ला शिवपुरम के लोग गंदगी के कारण बेहद परेशान हैं। लोगों ने कहा कि सड़क पर लगे गंदगी के ढेर और उनसे उठने वाली दुर्गंध के कारण सांस लेना भी दुश्वार है। गंदगी के ढेर में आवारा जानवर भी हर वक्त विचरण करते रहते हैं। कई शिकायतों के बाद भी पालिका प्रशासन बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही। अब तो वे शिकायत करने भी नहीं जाते। लोगों ने कहा कि अधिकारी भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे। इससे तो स्वच्छता अभियान का मजाक भी उड़ाया जा रहा है।
यह अलग बात है कि निवर्तमान डीएम दिनेश कुमार सिंह आम जनता के दिलों में बस गए थे, लेकिन नगर पालिका परिषद प्रशासन जरूर उनके कार्यकाल में काफी परेशान रहा। वजह थी कि उन्होंने पालिका की अकर्मण्यता को देखते हुए शहर की जनता को गंदगी से निजात दिलाने के लिए कई सेक्टर में शहर को बांट दिया था और उसकी देखभाल की जिम्मेदारी भी प्रशासनिक अधिकारियों को दी थी, लेकिन अब उनका यहां से तबादला हो जाने के बाद पालिका प्रशासन अब पूरी तरह से फिर से लापरवाही पर उतर आया है।
दो जेसीबी नगर पालिका के पास है, एक में तकनीकी कमी आ गई है, जिस कारण वह खराब हो गई है। एक ही जेसीबी बची है। ऐसे में उसी से सभी प्वांइटों से कूड़ा उठवाया जा रहा हैं, इस वजह से कुछ जगहों पर हो सकता है कि कूड़ा उठने में देर हुई होगी, लेकिन बुधवार सुबह उन जगहों से भी कूूड़ा उठवा दिया जाएगा।
- राजीव मलिक, सफाई निरीक्षक, नगर पालिका
... और पढ़ें

हरियाणा की 7.38 लाख की अंग्रेजी शराब पकड़ी, दो गिरफ्तार

बीसलपुर (पीलीभीत)। चेकिंग के दौरान परिवहन संबंधी फर्जी दस्तावेज बनाकर बिहार ले जाई जा रही हरियाणा की 7.38 लाख रुपये कीमत की अंग्रेजी शराब लदी पिकअप पुलिस ने पकड़ ली। दो तस्कर भी गिरफ्तार किए गए। मंगलवार शाम को एसपी ने प्रेसवार्ता कर इसका खुलासा किया। पुलिस के गुडवर्क की सराहना करते हुए एसपी ने कहा कि गिरोह के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।
सीओ बीसलपुर प्रवीण मलिक, कोतवाल हरिशंकर वर्मा टीम के साथ मंगलवार तड़के करीब साढ़े तीन बजे बरेली रोड पर भड़रिया मोड़ पर वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। इस बीच एक पिकअप को पुलिस ने रोक लिया। उसमें हरियाणा की अंग्रेजी शराब लदी हुई थी। परिवहन संबंधी कागजात देखने पर पुलिस को शक हुआ। इस पर पुलिस ने पिकअप को कब्जे में ले लिया। पिकअप चालक पलवल हरियाणा के ग्राम सुनहरी का नगला निवासी विनोद पुत्र रमेश चंद्र और फरीदाबाद हरियाणा के ग्राम मोहना निवासी दीपक पुत्र सोहनलाल को पकड़कर पुलिस कोतवाली ले आई। यहां परिवहन संबंधी कागजात फर्जी निकले। यह सामने आया कि बिहार में शराब बंदी है। बरामद हरियाणा की शराब को तस्करी कर बिहार के सोनपुर इलाके में डिलीवरी के लिए ले जाया जा रहा था। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की। दूसरे दिन मंगलवार शाम चार बजे एसपी अभिषेक दीक्षित, एएसपी रोहित मिश्र ने खुलासा कर पूरे मामले की जानकारी दी।
दो कंटेनरों में रखी थी शराब
बरामद शराब को पिकअप में दो कंटेनरों में रखा गया था। चेक करने पर उसमें अंग्रेजी शराब की फुल 145 बोतल, 60 पेटी हाफ बोतल, 44 पेटी पौवे बरामद हुई। इसकी कीमत 7.38 लाख रुपये बताई गई है। दो मोबाइल भी कब्जे में लिए गए हैं।
बिहार में शराब बंदी लागू है। इसलिए हरियाणा से तस्करी कर शराब वहां ले जाई जा रही थी। दो आरोपी पकड़कर जेल भेजे गए हैं। तस्करी गिरोह की जड़ तक पहुंचने के लिए सुरागरसी कराई जा रही है। तस्करों का आपराधिक इतिहास भी खंगालने के निर्देश दिए गए हैं। - अभिषेक दीक्षित, एसपी
... और पढ़ें

डीएम ने फरियादियों की सुनीं समस्याएं

भले ही शासन जनता की शिकायतों का त्वरित निस्तारण करने के निर्देश दे रहे हो, लेकिन धरातल पर स्थिति नहीं सुधर सकी है। यही वजह है कि मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस में अफसर शिकायतों के निस्तारण करने में संजीदा नहीं दिखे। पांच तहसीलों में आयोजित समाधान दिवस में अफसर 85 शिकायतों में महज आठ का ही समाधान कर पाए। डीएम की अध्यक्षता में तो महज एक ही मामले का निस्तारण हो सका।
डीएम वैभव श्रीवास्तव की अध्यक्षता में अमरिया तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में भूमि विवाद, राशन, केरोसिन, मारपीट, बिजली आदि से संबंधित कुल 11 शिकायतें आईं। इसमें सिर्फ एक का ही निस्तारण किया जा सका। जबकि शेष मामलों को संबंधित अधिकारियों को निस्तारण के लिए हस्तांतरित किया गया। यहां डीएम के अलावा एसपी अभिषेक दीक्षित, सीडीओ रमेश चंद्र पांडेय, डीडीओ योगेंद्र कुमार पाठक समेत अफसर मौजूद रहे। सदर तहसील में 10 शिकायतें आईं। इसमें एक शिकायत का मौके पर निस्तारण हुआ।
पूरनपुर। एसडीएम चंद्रभानु सिंह के समक्ष 18 फरियादियों ने समस्याएं रखीं। इसमें से दो का मौके पर निस्तारण कर दिया गया।
बीसलपुर। एडीएम देवेंद्र मिश्रा ने 26 में से केवल चार शिकायतों का निस्तारण मौके पर करा सके। माधोटांडा के कलीनगर तहसील में एडीएम अतुल सिंह 20 शिकायतों में से एक का भी निस्तारण नहीं करा सके।
... और पढ़ें

फंदे पर लटका मिला वृद्ध का शव

शाहजहांपुर। थाना सदर कोतवाली क्षेत्र में स्थित शांतिपुरम कॉलोनी निवासी वृद्ध का शव घर से दूर पेड़ पर तहमद के फंदे से लटका मिला। परिजन आत्महत्या मान रहे हैं लेकिन कारण कोई नहीं बता पा रहे हैं। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
शांतिपुरम कॉलोनी निवासी 65 वर्षीय निजामुद्दीन सोमवार शाम खाना खाने के बाद टहलने के लिए निकल गए। देर शाम तक नहीं लौटे तो बेटे सरताज, सरफराज, मोहम्मद फिरोज ने पिता की तलाश की लेकिन वह नहीं मिले। इसके बाद परिजन यह सोचकर सो गए कि कहीं परिचित के यहां चले गए होंगे। लौटकर आ जाएंगे। मंगलवार सुबह आठ बजे घर से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर एक बाग में कुछ लोगों ने शहतूत के पेड़ पर तहमद से फंदे पर निजामुद्दीन का शव लटका देखा। इसके बाद सूचना घर पहुंची तो परिजन मौके पर पहुंच गए। जानकारी मिलते ही इंस्पेक्टर किरनपाल सिंह भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। निजामुद्दीन की मौत पर बेटे सरताज ने बताया कि वह अक्सर चले जाते थे और दो-दो, तीन-तीन दिन बाद लौट आते थे। सोमवार को क्या बात हुईं उन्हें भी नहीं मालूम। निजामुद्दीन के तीन बेटे और एक बेटी नीलोफर है। पत्नी की काफी समय पहले मौत हो चुकी है।
निजामुद्दीन कल शाम को घर से निकले थे और मंगलवार सुबह उनका शव शहतूत के पेड़ पर फंदे से लटका पाया गया। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा गया है। मामले की जांच कराई जा रही है। परिजनों ने किसी तरह का कोई आरोप नहीं लगाया है।
दिनेश त्रिपाठी, एएसपी सिटी
... और पढ़ें

दूसरे दिन भी मेडिकल स्टोर पर छापा, मचा हडकंप

तिलहर। सोमवार को दुकानें बंद करके भागे मेडिकल स्टोर संचालकों को दूसरे दिन मंगलवार को दुकानें खुली होने पर औषधि सहायक आयुक्त की टीम ने धर दबोचा। इस दौरान उन्होंने बंद करके भागे मेडिकल स्टोर संचालकों के लाइसेंस चेक करने के साथ फार्मासिस्ट की उपस्थिति की भी जांच की। जिसमें सब कुछ सही होना पाया गया।
विधायक द्वारा बिना लाइसेंस चल रहे मेडिकल स्टोर की शिकायत पर आगरा मंडल के औषधि सहायक आयुक्त के नेतृत्व में सोमवार को टीम ने तिलहर व मीरानपुर कटरा में छापा मारा था। मेडिकल की दुकानों का निरीक्षण करते समय कुछ दुकानदार अपनी दुकानें बंद करके भाग गए। मंगलवार को सुबह करीब 10 बजे आगरा मंडल के सहायक आयुक्त औषधि शिवशरण सिंह के नेतृत्व में औषधि निरीक्षकों की टीम दोबारा तिलहर पहुंच गई और सरकारी अस्पताल के पास तीन मेडिकल दुकानों का निरीक्षण किया। सहायक आयुक्त ने बताया कि तीनों दुकानों का लाइसेंस सही पाया गया है। अस्पताल के सामने एक दुकान सोमवार और मंगलवार को दोनों दिन बंद पाई गई। जिसकी रिपोर्ट भेजी जा रही है। निरीक्षण के दौरान मेडिकल स्टोर संचालकों में हड़कंप मचा रहा। जांच के लिए आई टीम में मुरादाबाद के औषधि निरीक्षक मुकेश जैन, बिजनौर व अमरोहा के औषधि निरीक्षक आशुतोष मिश्रा, राजेश कुमार शामिल रहे।
... और पढ़ें

बरेली: जंगली हाथियों  के जमकर मचाया उत्पात, बैंडबाजे और पटाखों से खदेड़ा

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में मंगलवार भोर जंगली हाथियों ने बांकेगंज कस्बा से सटे पसियापुर गांव के खेतों में जमकर मचाया उत्पात। हाथियों के उत्पात से कई किसानों की धान और गन्ने की फसल उजड़ गई। 

जानकारी के मुताबिक बीती शाम बड़ी नहर लांघ कर जंगली हाथियों का एक बड़ा झुंड बांकेगंज कस्बा से सटे अर्जुन पुर गांव किनारे पहुंच गया जहां उन्होंने जमकर उत्पात मचाया। केला, गन्ना और धान फसल रौंदी, मचान उखाड़े। 

हाथियों के जमघट से परेशान गांववालों ने खुद ही अपनी मदद की। सैकड़ों की संख्या में हिम्मती ग्रामीणों ने बैंड बाजे के साथ शोर मचाया। इतना ही नहीं गांववालों ने पटाखे दागे। जिसके बाद हाथियों वहां से खदेड़े जा सके। 
... और पढ़ें

अनुसूचित जाति की छात्र को अलग बैठाने पर आयोग ने दिए एफआईआर दर्ज करने के आदेश

नवाबगंज के गांव अभयराजपुर के प्राइमरी स्कूल में अनुसूचित जाति की छात्रा को दूसरे बच्चों के बीच से उठाकर धूप में ‘मुर्गा’ बनाने और उस पर जातिगत टिप्पणी करते हुए पिटाई करने के मामले का राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन को आरोपी शिक्षिका के खिलाफ एफआईआर कराने के साथ पीड़ित बच्ची को सुरक्षा और आर्थिक मदद देने का आदेश दिया है। उधर, सोमवार को यह मामला अखबारों की सुर्खियां बनने के बाद अफसर भी गांव की ओर दौड़े। हालांकि फिलहाल जांच के नतीजे का खुलासा नहीं किया गया है।

अभयराजपुर के अनुसूचित जाति के राजेश पाल ने रविवार को नवाबगंज कोतवाली आकर गांव के प्राइमरी स्कूल की शिक्षक संध्या शर्मा के खिलाफ तहरीर दी थी। आरोप था कि उनकी बेटी मोहिनी गांव के स्कूल में कक्षा चार में पढ़ती है जिसे शिक्षक संध्या शर्मा ने शनिवार को दूसरे बच्चों के साथ बैठा देखकर डांटा और बाहर जाकर बैठने को कहा। उस पर यह कहते हुए जाति आधारित टिप्पणी भी की कि उसका काम शौचालयों की सफाई करने का है और पढ़-लिखकर वह डीएम नहीं बन जाएगी।

शिक्षक की डांट के बाद भी मोहिनी नहीं उठी तो उन्होंने उसे बाल पकड़कर पीटते हुए बाहर धूप में ले जाकर मुर्गा बना दिया। सोमवार को राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने इस प्रकरण का स्वत: संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन को आरोपी शिक्षिका के विरुद्ध एफआईआर कराकर पीड़ित को सुरक्षा व्यवस्था और नियमानुसार आर्थिक सहायता देने के आदेश दिए, साथ ही इसकी अनुपालन रिपोर्ट भी मांगी है।

बसपा ने दिया ज्ञापन
एससी छात्रा के साथ हुए दुर्व्यवहार से नाराज बसपा नेताओं ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर प्रभावी कार्रवाई करने की मांग की है। इस दौरान जगदीश प्रसाद, नरेंद्र सागर, डॉ. जयपाल सिंह, विजय आनंद, गौरव गौतम आदि मौजूद रहे।

पीड़ित परिवार बोला- न्याय न मिला तो छोड़ देंगे गांव
छात्रा मोहिनी के पिता राजेश पाल ने कहा है कि मंगलवार को वह पुलिस और प्रशासनिक अफसरों से मिलकर कार्रवाई की मांग करेंगे और अगर उन्हें न्याय न मिला तो गांव छोड़कर चले जाएंगे। राजेश पाल ने बताया कि गांव में दो ही परिवार उनकी जाति के हैं। गांव के लोग उन्हें परेशान कर रहे हैं। सोमवार सुबह आरोपी शिक्षिका बच्चों को सिखा रही थीं कि अधिकारियों के सामने वे उनका साथ दें। बच्चों को धमकाया भी कि उनकी बात न मानी तो स्कूल से नाम काट कर भगा देंगी। दंपती ने कहा कि यदि न्याय नहीं मिला तो वे गांव छोड़कर चले जाएंगे। बोले, बेटी भी डरी हुई है और स्कूल भी नहीं जा रही है।

एबीएसए के साथ पुलिस भी जांच करने गांव पहुंची
सोमवार को एबीएसए विवेक शर्मा और कोतवाली के सब इंस्पेक्टर वीरेंद्र राणा गांव में जांच करने पहुंचे। एबीएसए ने बताया कि छात्रा स्कूल नहीं आई थी लिहाजा जांच पूरी नहीं हो सकी। स्कूली बच्चों, शिक्षकों और गांव वालों के बयान दर्ज किए हैं। मंगलवार को दोबारा जांच की जाएगी। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। इंस्पेक्टर नवाबगंज गौरव सिंह ने बताया कि पुलिस जांच करने गांव जरूर गई थी लेकिन अभी जांच रिपोर्ट नहीं मिली है। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई होगी।
... और पढ़ें

दो साल की बच्ची को चिप्स दिलाने के बहाने ले जाकर की दरिंदगी

एसएसपी गांव पहुंचे, चालीस साल के आरोपी को पकड़वाया

सीबीगंज (बरेली)। थाना क्षेत्र के एक गांव में चालीस साल के दरिंद ने हवस मिटाने के लिए अपने ही गांव की एक दो साल की बच्ची को शिकार बना लिया। वह उसे चिप्स दिलाने के बहाने घर से ले गया और उसके साथ दरिंदगी की। खून से लथपथ बच्ची आरोपी के घर में मिली। घटना की सूचना पर एसएसपी खुद मौके पर पहुंच गए। इसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस ने आरोपी को देर रात गांव से दबोच लिया। बच्ची के पिता की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।  
ताने से सटे एक गांव निवासी एक व्यक्ति चाट का ठेला लगाता है। सोमवार शाम उसकी दो साल की बच्ची घर के ही बाहर खेल रही थी। इस बीच गांव का ही चालीस साल का यादराम साहू उर्फ बाबा वहां आया और बच्ची को खिलाने लगा। फिर उसे चिप्स दिलाने के बहाने गोद में उठा ले गया। अपने घर ले जाकर आरोपी ने उसके साथ दरिंदगी की। जब काफी देर तक जब बच्ची वापस नहीं आई तो उसके परिवार ने उसकी तलाश शुरू की। गांव के कुछ लोगों ने बताया कि तुम्हारी बच्ची को यादराम ले गया है। बच्ची के परिजन तुरंत ही आरोपी के घर जा पहुंचे। वहां उनकी बच्ची खून से लथपथ हालत में रोती हुई मिली। इस बीच मौका पाकर आरोपी वहां से फरार हो गया। बच्ची के परिजन उसे लेकर थाने पहुंचे। पुलिस ने तहरीर लेकर बच्ची को मेडिकल परीक्षण और उपचार के लिए भिजवाया। बच्ची से दरिंदगी की सूचना पर एसएसपी शैलेश पांडेय, सीओ सेकंड सीमा यादव भी गांव पहुंच गए। इस बीच गांव के लोगों के प्रयास से पुलिस ने आरोपी को देर रात गिरफ्तार कर लिया गया। एसएसपी ने ने बताया कि बच्ची के पिता की तहरीर पर दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया जा रहा है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
11